Bhavishya badri temple uttarakhand

भविष्य बद्री मंदिर जहाँ भविष्य में होगी बद्री नारायण की पूजा जब बद्रीनाथ का हो जाएगा रास्ता बंद ,शिला पर धीरे-धीरे प्रकट हो रही है  भगवान विष्णु की प्रतिमा,सुंदर घने जंगलो और घास के मैदानो से घिरा है भविष्य बद्री का मन्दिर।

भविष्य बद्री मंदिर उत्तराखंड राज्य के जोशीमठ से 15 किमी आगे तपोवन घाटी से 6 किमी का पैदल मार्ग है जिसे अब मोटर मार्ग से जोड़ दिया गया है। आदि गुरु शंकराचार्य ने सुभाई गाँव जो कि भविष्य बद्री से कुछ किमी पहले पड़ता है यहाँ पर एक मंदिर की स्थापना की थी जिसके कपाट श्री बद्रीनाथ धाम के कपाट खुलने पर उसी दिन व उसी समय पर यहाँ के कपाट भक्तों के लिए खोले जाते है भविष्य बद्री मंदिर यहाँ से २-३ किमी की दूरी पर स्थित है जहाँ एक पत्थर की शिला पर भगवान विष्णु की प्रतिमा दिन प्रतिदिन आकार ले रही है । मान्यताओ के अनुसार आने वाले समय में श्री बद्रीनाथ धाम का मार्ग बहुत ही दुर्गम व अवरुद्ध हो जाएगा तब भगवान विष्णु जी की पूजा इसी स्थान पर होगी जिस कारण इस स्थान को भविष्य बद्री कहा गया।                  

पर्यटकों को अत्यंत आकर्षक करने वाले दृश्य व देवदार के वृक्षों से भरे जंगल व घास के मैदान जिसे देखकर हृदय में अत्यंत आनंद की अनुभूति होती है । भविष्य बद्री मंदिर तक अब मोटर मार्ग से जाया जा सकता है मार्ग अभी निर्माणाधीन है लेकिन जाने लायक़ है हो सकता है रास्ते में कुछ ख़ासा दिक़्क़तो का सामना करना पड़े।अप्रैल से अक्टूवर तक यहाँ हरियाली छाई रहती है वही नवम्बर के बाद यह रास्ता थोड़ा कठिन हो जाता है व पूरा क्षेत्र बर्फ़ की मोटी चादर ओढ़े और भी सुशोभित शोभायमान हो जाता है ।

  Photos of bhavishya badri temple

Click on photos to see in big size

bhavishya badri photos

bhavishya badri tem

Bhavishya badri temple uttarakhand

Bhavishya badri view

Bhavishya badri temple

bhavishya badri photos

Bhavishya badri

temple uttarakhand

sheep

 

 

Related posts

Leave a Comment